शुक्रवार, 30 सितंबर 2011

कथा नुमा

* कथा :- [झंडू बाम ]
- तुम्हारी शादी हुयी ?
_ हाँ ?
- पत्नी कहाँ है ?
- मेरे साथ ।
- कभी दावत दो तो हम भी देखें ।
- दावत की क्या ज़रूरत , लो अभी देखो ।
और उसने जेब से एक शीशी निकाल ली ।
- यह क्या है ?
- यही है मेरी बीवी । मेरे लिए यह झंडू बाम हो गयी है । #
###

1 टिप्पणी: